रमजान में दुकानों से गायब हुआ मशहूर शरबत रूह अफज़ा, जानिए क्यों!

रमजान (Ramadan) का पाक महीना शुरू हो गया है, लेकिन भारतीय मुस्लिम इस बार जिस चीज़ को सबसे ज्यादा याद करेंगे वो है गर्मियों में हर घर में रहने वाला मशहूर शरबत रूह अफज़ा. पिछले कई महीनों से रूह अफज़ा बाजार से गायब हो गया है. बाजार में अटकलें हैं कि इसे बनाने वाली कंपनी हमदर्द के मालिकों के बीच अनबन की वजह से रूह अफज़ा के प्रोडक्शन पर असर पड़ा है. हालांकि कंपनी का कुछ और ही कहना है. पिछले कई दशकों से रूह अफज़ा गर्मियों में हमारा पसंदीदा ड्रिंक रहा है. मगर इस बार जब लोग बाजार में रूह अफज़ा खरीदने पहुंच रहे हैं तो उन्हें खाली हाथ वापस आना पड़ रहा है. खुद दुकानदार रूह अफज़ा का स्टॉक कंपनी की तरफ से ही नहीं आ पाने की बात मान रहे हैं.

किसी विवाद से इनकार 

1906 में हकीम हाफिज अब्दुल माजिद ने रूह अफज़ा का उत्पादन शुरू किया था. अब इसकी कमान उनके पोतों के हाथ में है. भारत के अलावा पाकिस्तान और बांग्लादेश भी काफी लोकप्रिय है रूह अफज़ा. खबर ये आ रही थी कि संपत्ति विवाद की वजह से रूह अफज़ा का प्रोडक्शन रुक गया. हालांकि कंपनी के प्रवक्ता का कहना है कि किसी कारणवश प्रोडक्शन बंद करना पड़ा और यह जल्द ही फिर से शुरू हो जाएगा. कंपनी ने मालिकों में किसी विवाद से भी इनकार किया.

विकल्प मौजूद हैं बाजार में

वैसे बाजार में रूह अफज़ा के विकल्प के रूप में डाबर का शरबते आजम और पतंजलि का गुलाब शरबत  भी है जिन्हें इस कमी से फायदा हो सकता है. लेकिन रूह अफज़ा की बात ही कुछ और है. इंतजार है कि रूह अफज़ा बाजार में वापस आए.

2.70 लाख रुपये में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने हो सकती है 25 हजार तक कमाई